एसटीएफः सोशल मीडिया द्वारा विदेशों में नौकरी दिलाने के नाम पर बन्धक बनाकर हवाला के माध्यम से अवैध वसूली करने वाला अपराधी पवन गाॅंधी गिरफ्तार


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 01 अगस्त। आज दिनाक 01-08-2020 को एस0टी0एफ0, उ0प्र0 को सोशल मीडिया (फेसबुक, मैसेन्जर, व्हाट्सअप आदि) के माध्यम से ठगी कर यू0एस0ए0/कनाडा आदि देषों में नौकरी दिलाने के नाम पर बन्धक बनाकर हवाला के माध्यम से अवैध वसूली करने वाले गिरोह का सदस्य व रू0 50,000/-का पुरस्कार घोषित अपराधी पवन गाॅंधी को प0 बंगाल से गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई। 


गिरफ्तार अभियुक्त का विवरणः-


1. पवन गाॅंधी पुत्र प्रेम नरायन गाॅंधी निवासी सन फ्लावर अपार्टमेण्ट सी-01, 09ए 94 टोपसिया रोड गोविन्दा खटिक रोड कोलकता (प0बंगाल)


बरामदगीः-
1. मोबाइल फोन 07 अदद।
2. बैंक चेकबुक 01 अदद। 


3. पासपोर्ट 01 अदद।
4. पैनकार्ड 03 अदद।
5. आधार कार्ड 01 अदद।
6. बैंक एटीएम कार्ड 01 अदद।


गिरफ्तारी का स्थान/दिनांकः-
 फ्लैट नं0-38, ब्लाॅक-03 राजरहाट थाना राजरहाट जनपद चैबीस परगना नार्थ (प0बंगाल), दिनांक 01-08-2020।
 
 एक गिरोह के सक्रिय होकर सोशल मीडिया जैसे फेसबुक, फेसबुक मैसेन्जर एवं व्हाट्सएप आदि के माध्यम से विदेषों विषेषकर अमेरिका एवं कनाडा में नौकरी दिलाने के नाम पर वाराणसी बुलाकर बन्धक बना कर मारपीट एवं बन्दूक से डरा धमका कर अवैध धन वसूला जा रहा था। इसी तरह की एक घटना दिनांक 22-11-2019 को जनपद वाराणसी के थाना कैण्ट क्षेत्रान्तर्गत घटित हुई थी, जिसमें उक्त गिरोह द्वारा नरोडा अहमदाबाद गुजरात के कुछ लोगों को वाराणसी बुलाकर और उन्हें बन्धक बनाकर उनसे 20 लाख रूपये अवैध रूप से हवाला के माध्यम से नई दिल्ली में वसूला गया था। इस संबंध में जनपद वाराणसी के थाना कैण्ट में मु0अ0सं0 1548/2019 धारा 420/406/323/ 342/506/386/120बी भादवि पंजीकृत हुआ था। उक्त घटना का अनावरण करते हुये सरगना राजवीर यादव, कपिल उर्फ भाष्कर उर्फ भाटिया, पवन गाॅंधी आदि को वांछित किया गया था, जिसमें से राजवीर यादव एवं पवन गाॅंधी पर रू0 20-20 हजार का पुरस्कार घोषित किया गया। पुरस्कार घोषित अपराधियों की गिरफ्तारी हेतु पुलिस महानिरीक्षक एस0टी0एफ0 उ0प्र0 एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एस0टी0एफ0 उ0प्र0 द्वारा आवष्यक निर्देष दिये गये थे, जिसके क्रम में एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी के निरीक्षक श्री अनिल कुमार सिंह के नेतृत्व में टीम गठित कर अभिसूचना संकलन कार्यवाही प्रारम्भ की गयी थी और एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी द्वारा उक्त गैंग के 20 हजार रूपये के पुरस्कार घोषित अपराधी राजवीर सिंह यादव पुत्र रामस्वरूप यादव निवासी ग्राम सेहदपुर थाना पवई जनपद एवं कपिल उर्फ भाष्कर उर्फ भाटिया पुंत्र पुलिन कुमार निवासी नक्साल थाना कमल पोखरी जिला काठमाण्डू नेपाल हाल पता-म0नं0 जे-233 गली नं0 13 संगम बिहार काॅलोनी नई दिल्ली-62 को दिनांक 01-03-2020 को जनपद वाराणसी के थाना कैण्ट क्षेत्र से गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था, तथा फरार अपराधी पवन गांधी पर घोषित पुरस्कार की राषि बढाकर 50 हजार रूपये कर दिया गया था। 
      अभिसूचना संकलन से ज्ञात हुआ कि उक्त पवन गांधी कोलकता (पं0बंगाल) में लुकछिप कर रह रहा है। इस सूचना के दृष्टिगत एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई वाराणसी के निरीक्षक श्री अनिल कुमार सिंह, हे0कां0 अरविन्द पाठक, कां0 सलीमुद्दीन, कां0 अनिरूद्ध सुवन त्रिपाठी, कां0 अजय जायसवाल एवं मुख्य आरक्षी चालक राजमणि की एक टीम गठित कर उक्त अभियोग के विवेचक के साथ कोलकता (प0बंगाल) रवाना किया गया। उक्त टीम द्वारा आज दिनांक 01-08-2020 को पवन गाॅंधी को गिरफ्तार करते हुये सी0जे0एम0 (नार्थ) चैबीस परगना बरासत (प0बंगाल) के न्यायालय में कस्टडी रिमाण्ड हेतु प्रस्तुत किया गया। मा0 न्यायालय से पवन गाॅंधी की कस्टडी रिमाण्ड प्राप्त कर आवष्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है। 
      उक्त के संबंध में अभिसूचना संकलन, विषलेषण एवं गिरफ्तार अभियुक्त से पूछतांछ में पता चला कि इनका एक संगठित गिरोह है, जिसका सरगना राजवीर सिंह यादव है। यह गिरोह दो भाग में अपराध को अन्जाम देता है। पहले भाग को पवन गांधी तथा राहुल मेहरा जो मुम्बई का रहने वाला है, देखते हैं। पवन गांधी एवं राहुल मेहरा द्वारा सोषल मीडिया जैसे फेसबुक, मैसेन्जर, व्हाट्सएप आदि पर फर्जी आई0डी0 से यू0एस0ए0/कनाडा में जाॅंब दिलाने का विज्ञापन पोस्ट करते हैं। यह विज्ञापन विषेष कर बंगलादेश, नेपाल एवं गुजरात के लोगों के लिये निकालते हैं और इसी विज्ञापन में सम्पर्क करने के लिये अपना एक मोबाइल नंबर भी दे देते हैं। इस नंबर पर बातचीत एवं व्हाट्सएप चैट करते हैं। यह कार्य एक से दो माह तक चलता है। जब यह बात तय हो जाती है कि कोई व्यक्ति यू0एस0ए0/कनाडा जाने के लिये तैयार हो गया है तो उसी समय इच्छुक व्यक्ति को बताया जाता है कि नौकरी मिलने के तुरन्त बाद हवाला के माध्यम से एक व्यक्ति को 15 से 20 लाख रूपये तक देना पडेगा। एडवान्स के रूप कुछ नही लगेगा। इसपर संबंधित व्यक्ति तुरन्त विश्वास कर लेता है और इनके परिवारीजन भी तैयार हो जाते हैं, तब पवन और राहुल मेहरा संबंधित व्यक्ति को वाराणसी बुलाते हैं और जब संबंधित व्यक्ति यहाॅं पहुॅच जाता है तो इन्हें एक होटल में ठहराया जाता है और यहाॅं से गैंग के दूसरे भाग का काम षुरू हो जाता है। इसका नेतृत्व राजवीर सिंह यादव करता है। राजवीर सिंह यादव अपने गैंग के सदस्यों के माध्यम से उक्त होटल और व्यक्ति की निगरानी कराता है कि कहीं पुलिस पीछे तो नही लगी है, जब निष्चितं हो जाते हैं तब संबंधित व्यक्ति को यह कहते हुये कि आपको हमलोग विदेश भेजने के लिये एयरपोर्ट ले चल रहे हैं और एयरपोर्ट न ले जाकर सारनाथ व सिगरा स्थित अपने ठिकाने पर ले जाकर बन्धक बना लेते हैं। इसके बाद मारपीट एवं बन्दूक सटाकर धमकाते हुये परिजनों से बात करवाते हैं कि यह बता दो कि हमलोग एयरपोर्ट पहुॅंच गये हैं हमारी बोर्डिंग तैयार हो गयी है और मै अपना मोबाइल स्विचआॅफ कर रहा हॅूं। विदेष पहुचने के बाद बात होगी और मोबाइल स्विचआॅफ कर लेते हैं। विदेष में फ्लाईट के पहुचने की अवधि के हिसाब से इनके गैंग के नेपाल निवासी लवली व मध्य प्रदेष निवासी संतोष दूबे संबंधित देष का वर्चुवल नम्बर इण्टरनेट से तैयार कर पुनः मारपीट कर बन्दूक सटाकर परिवार के लोगों से यह बात कराते हैं कि मैं विदेष पहुच गया हॅूं और मुझे जाॅब मिल गयी है और यहाॅं का मौसम खराब है, इसलिये विडियो काॅलिंग नही कर पा रहा हॅूं। जो पैसा तय हुआ था वह हवाला के माध्यम से दे दें। इसपर परिवार वाले विष्वास कर हवाला के माध्यम से पैसा इस गैंग के लोगों को भेजवा देते हैं, जिसे पवन गांधी दिल्ली में उक्त पैसा हवाला के माध्यम से प्राप्त कर लेता है। पैसा प्राप्त हो जाने के बाद गैंग द्वारा बन्धक बनाये गये व्यक्ति को आॅंख पर पट्टी बांधकर रेलवे स्टेषन के पास रेलवे टिकट देकर छोड दिया जाता है और पैसा गैंग में बराबर बाॅंट लिया जाता है। इस गैंग द्वारा अबतक लगभग 35 से 40 लोगों के साथ इसी तरह की अवैध वसूली की जा चुकी है। गिरफ्तार अभियुक्त द्वारा पूछतांछ में यह भी बताया गया कि वर्ष 2017 में नरेष चुन्नी लाल मोदी निवासी सी-12 लक्ष्मी अपार्टमेण्ट संतकबीर स्कूल के पीछे थाना नौरंगपुरा अहमदाबाद गुजरात से 14 लाख रूपये लिये थे। इस संबंध में जनपद वाराणसी के थाना फूलपुर पर मु0अ0सं0 256/2017 धारा 342/346/386/364ए भादवि पंजीकृत हुआ था। 
      गिरफ्तार अभियुक्त पवन गांधी ने बताया कि उसने  फेसबुक पर दिनांक 22-11-2019 को शेखर सूद नाम से आई0डी0 बनाकर मोबाइल नंबर ९०७३२२००६५७ दिया था। इसी नंबर से तुषार वी0 पटेल निवासी मोहननगर सोसाइटी बंगला नं05 भाग-1 थाना नरोडा अहमदाबाद गुजरात अपने मोबाइल से बातचीत कर तैयार हो जाने पर इसे वाराणसी आने के लिये यह कहकर बुलाया गया कि वाराणसी में छोटा एयरपोर्ट हैं यहाॅं पर टिकट आसानी से मिल जायेगा कोई समस्या नही होगी। इसपर तुषार वी0 पटेल तैयार हो गया और तुषार अपने साथ 02 व्यक्तियों को भी साथ लाया और दोनों व्यक्तियों को नदेसर स्थित एक होटल में दो दिन तक ठहराया गया था, उसके बाद एयरपोर्ट ले जाने के नाम पर सिगरा स्थित अपने ठिकाने पर ले जाकर बन्धक बना लिया था और इनके घर वालों से कोलम्बस का वर्चुअल नंबर तैयार बात कराकर 20 लाख रूपया हवाला के माध्यम से ले लिया गया और इन्हें कैण्ट स्टेषन पर दिल्ली का टिकट कटाकर छोड दिया गया था। इस संबंध में तुषार वी0 पटेल द्वारा दिनांक 03-12-2019 को थाना कैण्ट पर मु0अ0सं0 1548/2019 धारा 420/406/323/342/506/386/120बी भादवि पंजीकृत कराया गया था। इसी मुकदमें में पवन गाॅंधी पर 50 हजार रूपये का पुरस्कार घोषित किया गया था। 
उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्त के संबंध में अग्रिम आवष्यक विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।