अंततः 10 हज़ार का इनामी मुजरिम डी0के0 फंसा पुलिस के जाल में  


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ जुलाई। कहते है की पुलिस अगर अपनी पर आ जाये तो कोई भी कैसा भी मुजरिम हो, चाहे वो कितना भी भाग ले एक दिन उसे पुलिस के जाल में फंसना ही पड़ता है। ऐसा ही एक शातिर अंतर्जनपदीय मुजरिम डी0के0 उर्फ़ दिनेश रस्तोगी, अपराध जिसका शौक है आखिरकार 24 दिन के बाद काकोरी पुलिस के बिछाए जाल में फंस ही गया।


      जनपद को अपराध मुक्त बनाने की मिशन पर कमिश्नर सुजीत पांडे के निर्देशन में लखनऊ दक्षिणी के पुलिस उपायुक्त रईस अख्तर के मार्गदर्शन व सुरेश चंद्र रावत एडीसीपी दक्षिणी, एसएम कासिम आब्दी एसीपी काकोरी के परिवेक्षण में प्रभारी निरीक्षक प्रर्मेंद्र कुमार सिंह के नेतृत्व में काकोरी पुलिस ने अंततः डीके को गिरफ्तार कर ही लिया। डीके जोकि रायबरेली के थाना महाराजगंज का निवासी है और लखनऊ के विभिन्न थाना क्षेत्रों में अपना निवास स्थान बना रखा था। यह कुख्यात गैंगस्टर चैनस्नेचर संदीप सोनी का साला है जो कि इस समय जेल में बंद है। अपराध करने के बाद डीके निरंतर अपना स्थान बदलता रहता था।

      ज्ञात हो कि 1 जुलाई को काकोरी क्षेत्र  में शाम 8:15 बजे बरावन खुर्द पानी की टंकी के पास दुबग्गा में लूट की घटना होती है और 3 जुलाई को उक्त लूट का एक मुलजिम पवन कुमार यादव पुलिस की गिरफ्त में आ जाता है। जिसके पास से भी एक चेन बरामद होती है। तभीसे पुलिस लगातार पवन के दूसरे साथी डीके को तलाश रही थी। जिसकी तलाश में पुलिस को लखनऊ के अलावा रायबरेली एवं अन्य जनपदों में भी खाक छाननी पड़ी। डीके के अपराधिक इतिहास को देखते हुए पुलिस उपायुक्त दक्षिणी ने उसके ऊपर 10,000 का इनाम भी घोषित कर दिया था। इसी बीच पुलिस को विवेचना के दौरान जानकारी मिली की रायबरेली थाना महाराजगंज में डीके एक हिस्ट्रीशीटर बदमाश के रूप में पंजीकृत है जिसका नंबर HS 50 A है।         अंतत: कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस को लखनऊ काकोरी क्षेत्र में ही प्रातः 5:30 बजे घैला पुल, जेहटा मोड़ के पास डीके को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त किया। उसके पास उस लूट का एक मंगलसूत्र के अलावा एक 12 बोर का कट्टा व दो जिंदा कारतूस बरामद हुए।

डीके का अपराधिक इतिहास :-

मु०अ०सं० 378/2020 - 302/ 411 भा० दं० वि० थाना काकोरी लखनऊ।

मु०अ०सं० 419/2020 - 3/25 भा० दं० वि० थाना काकोरी लखनऊ।

मु०अ०सं० 068/2020 - 302/ 411 भा० दं० वि० थाना आलमबाग लखनऊ।

मु०अ०सं० 659/2004 - 379/ 411 भा० दं० वि० थाना महाराजगंज रायबरेली।

मु०अ०सं० 661/2004 - 8/18 एनडीपीसी एक्ट थाना महाराजगंज रायबरेली।

मु०अ०सं० 080/2005 - 380 भा० दं० वि० थाना महाराजगंज रायबरेली।

गिरफ्तार करने वाली टीम का विवरण :-

उप निरीक्षक अर्जुन शुक्ला, अच्युतानंद राय, योगेंद्र सिंह (क्रा० ब्रां०)


हे०का० बांके बहादुर सिंह

कां० बृजेश कुमार, विकास चौधरी, सुनील सिंह (क्रा० ब्रां०), मनजीत (क्रा० ब्रां०)