सीएए में पिछड़ों की स्थिति स्पष्ट होनी चाहिए - शिवपाल सिंह यादव


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा


लखनऊ 24 जनवरी। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के तत्वावधान में आयोजित  कर्पूरी ठाकुर जयंती के अवसर पर बोलते हुए प्रसपा प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि सीएए में पिछड़ों की स्थिति स्पष्ट होनी चाहिए और सुनिश्चित करना होगा कि छोटे पैमाने में नाई, कहार, बढ़ई, खटिक, भूमिहीन किसानी आदि का काम करने वाले लोगों के नागरिक अधिकारों को चोट न पहुँचे।


 कर्पूरी ठाकुर ने बिहार में अंग्रेज़ी की अनिवार्यता समाप्त कर हिंदी को सशक्त किया। उन्होंने लोहिया के निर्गुण सिद्धांतों को सगुण रूप दिया। उनकी सादगी और समाजवाद में निष्ठा अनुकरणीय है। वे आज़ादी के योद्धा और लोहिया की आज़ाद दस्ता के सदस्य थे। उन्होंने बयालीस की क्रांति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। वे बिहार के मुख्यमंत्री व संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी के अध्यक्ष जैसे पदों पर रहे किंतु सत्ता की गलियारे में आम-जन की ही तरह रहे । उन्होंने कुटीर व छोटे उद्योगों पर आधारित अर्थव्यवस्था पर ज़ोर दिया । देश को कर्पूरी जैसे नेतृत्व की आवश्यकता है। बौद्धिक सभा के अध्यक्ष दीपक मिश्र ने कहा कि वर्तमान में जो राजनीतिक परिदृश्य है उसपर पुस्तिकाएँ प्रकाशित बंटवाया जायेगा। देश में प्रतिदिन 35 बेरोज़गार और 36 लघु व्यवसायी आत्महत्या कर रहे हैं। केंद्र सरकार आर्थिक मोर्चे पर विफल है। बजट को गाँव व गरीब उन्मुख बनाया जाय। कार्यशाला में प्रसपा प्रदेश अध्यक्ष सुंदर लोधी, युवजन सभा अध्यक्ष अमित जानी, शिक्षक नेत्री रिंकी सिंह, राष्ट्रीय महासचिव रामसिंह यादव, महासचिव सत्यजीत सिंह अतवारा ,ग़यासुद्दीन , उमर शेख़, शांति यादव समेत कई पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया । मेरठ की सृष्टि त्यागी,अमरोहा के कुँवर रोबिन, हरदोई के विकास शर्मा, बाराबंकी के विनय कुमार समेत कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस अवसर पर प्रसपा की सदस्यता लेकर प्रगतिशील समाजवाद को मज़बूत करने का संकल्प लिया ।