सरकार द्वारा किसानों की अनदेखी होने से किसान आज बर्बादी की कगार पर - सुनील सिंह


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 03 जनवरी। लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व एमएलसी सुनील सिंह ने कहां की सरकार झूठ बोलकर किसानों को छलने का कार्य कर रही है। प्रदेश के किसानों को बुलाकर फोटो खिंचवाने का काम कर रहे हैं मुख्यमंत्री जी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसानों की समस्या बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि की वजह से हुए किसानों का नुकसान गन्ना मूल्य बकाया, आवारा पशुओं द्वारा किसानों को हो रही दिक्कत किसानों की कर्ज माफी प्रदेश में महिलाओं के विरुद्ध बढ़ती हुई हिंसा, अत्याचार, रोजगार, भ्रष्टाचार, संविदा कर्मचारी, सरकारी कर्मचारियों की समस्याएं समेत प्रदेश में सभी छोटे व्यापारियों को हो रही है दिक्कत नहीं दिखाई पड़ती। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के किसानों की अनदेखी होने की वजह से किसान आज बर्बादी की कगार पर पहुंच गया है । गन्ना किसान का भुगतान नहीं हुआ है जिस तरह से विगत 3 वर्षों से गन्ने के दाम में प्रदेश सरकार ने कोई बढ़ोतरी नहीं की और साथ ही किसान की लागत मूल्य बढ़ती चली जा रही है। उसको लेकर सरकार गंभीर नहीं है । प्रदेश में भाजपा सरकार ने कर्ज माफी के नाम पर किसानों को छलने का कार्य किया है। सरकार झूठ बोलकर किसानों को गुमराह कर रही है। किसानों का फसल बीमा योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा है, उसका बहुत बड़ा कारण सरकार द्वारा फसल बीमा कंपनियों को संरक्षण देना है। प्रदेश में किसान आवारा पशुओं की वजह से बर्बादी के कगार पर पहुंच गया है सरकार आंकड़ों प्रस्तुत करती है कि जिलों में आवारा पशुओं को रखने के लिए पशु शालाओं का निर्माण किया जा रहा है परंतु यह एक भाजपा सरकार का झूठा चेहरा साबित हुआ प्रदेश में बेरोजगारी कि दर 7.6ः हो गई है और उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी दर 8.1ः (सीएमआईई )के आंकड़े के अनुसार यह चिंता का विषय है ।प्रदेश में बेरोजगारी दर इस कदर बढ़ चुकी है कि वास्तविक आंकड़े सामने नहीं आ पा रहे हैं सरकार सही आंकड़ा छुपाने का काम कर रही है।
आज प्रदेश में शिक्षित नौजवान भर्तियों में हो रहे घोटाले की भेंट चढ़ रहे हैं । जहां शिक्षामित्र, पंचायत मित्र, आंगनबाड़ी, कार्यकत्री, अनुदेशक शिक्षक, उर्दू शिक्षक, रसोईया, परा मेडिकल कर्मचारी, होमगार्ड आदि तमाम संवर के लोग प्रदेश में आए दिन सड़क पर उतरकर संघर्ष करने के लिए विवश हैं । प्रदेश में जिस तरीके से सरकारी पद रिक्त पड़े हैं और सरकार उन्हें भर नहीं रही है और ठेकेदारी प्रथा लागू कर रही है यह गंभीर चिंता का विषय है। प्रदेश में जिस तरह से भ्रष्टाचार बढ़ रहा है सरकार अपने भ्रष्टाचारी मंत्रियों एवं अधिकारियों को संरक्षण दे रही है। जीरो टॉलरेंस का दावा करने वाले योगी आदित्यनाथ जी के नीचे उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार के अनेकों मामले हुए और सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी हुई है डीएचएफएल घोटाला, मिड डे मील घोटाला, एलडीए घोटाला ,हाईवे घोटाला, होमगार्ड जवानों की ड्यूटी घोटाला, ओडीएफ घोटाला, जैसे अनेक घोटाले भाजपा के जीरो टॉलरेंस का आईना दिखा रहे हैं। एमएचआरडी की रिपोर्ट के अनुसार मिड डे मील में भ्रष्टाचार के मामले उत्तर प्रदेश में अव्वल बने हुए हैं।