डीजीपी पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू किये जाने के उपलक्ष्य में नागरिक अभिनन्दन समारोह में सम्मानित किये गए


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ । आज दिनांक 24.01.2020 को लखनऊ नागरिक समाज द्वारा मालवीय सभागार, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ में आयोजित नागरिक अभिनंदन समारोह में लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नरी प्रणाली लागू किये जाने के उपलक्ष्य में मुख्य अतिथि ओ0पी0 सिंह, पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 को सम्मानित किया गया। अमरनाथ मिश्र, चीफ वार्डेन सिविल डिफेन्स द्वारा पुलिस महानिदेशक को बुके देकर उनका स्वागत किया गया।



 पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 ने अपने उद्बोधन में कहा किः-
     मैं यह बताना चाहूंगा कि यह किसी संवर्ग की लड़ाई की बात नहीं है, यह एक सम्भवतः आज के समय की आवश्यकता है, उसी के अनुरूप पुलिस कमिश्नर प्रणाली को देखना चाहिये। किसी भी पुलिस कि क्षमता, विश्वसनीयता, संवेदनशीलता और क्रियाशीलता के सभी आंकलन करना बहुत ही कठिन विषय है, जिसको पैरामीटर में आॅकने की कोशिश करते है। किसी भी संगठन को मापने के लिये खासकर पुलिस जैसे फोर्से जो एक सेवा भी है और बल भी है। उसका मापदण्ड क्या हो सकता है। उसका मापदण्ड विश्वसनीयता है। उ0प्र0 की जनता में पुलिस के प्रति विश्वसनीयता बढ़ी है।



     उ0प्र0 पुलिस भारत की सबसे बड़ी फोर्स में से एक है, इस विषम परिस्थितियों में पुलिसिंग एक बड़ा चैलेंज है, हमने देखा कि जनता की अपेक्षा हमसे बहुत ज्यादा है, हमने समय-समय पर उसे समझने की कोशिश की। इन सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओं विचार कर उसपर कार्य किया गया तथा वर्ष 2018 में एक विन्डो ओपेन कर निष्पक्ष तरीके से थर्ड पार्टी असिस्मेंट कराया गया, जो हमारी गतिविधियों, हमारी प्रक्रियाओं व हमारी स्वस्थ परम्पराओं को चिन्हित रखे और उसपर अपना सोध रखे तथा पुलिस के कार्यो का निष्पक्ष मूल्यांकन करे, और यह थर्ड पार्टी का शोध पुलिस बल के लिये अच्छा व सुलभ रहा। किसी भी फोर्स के फंक्शन के लिये यह जरूरी है कि वह जनता से जुड़े। पुलिसिंग को हमने एक बड़ा चैलेंज समझा। हमने लोंगो का विश्वास जीतने की कोशिश की। ज्यादातर लोंगो की भावना यह रही कि हमारे व्यवहार में सकारात्मक सुधार हुआ है।  हमने पुलिस को मार्डन बनाने की कोशिश की, हमने इनीशियेटिव सोशल मीडिया का उपयोग किया। सोशल मीडिया को विदेशों तक ले जाने की कोशिश और इस दिशा में सार्थक कार्य किया। हमने तकनीक को विशेष महत्वपूर्ण स्थान दिया। हमने पुलिसिंग व्यवस्था को सकारात्मक दिशा में ले जाने की कोशिश की।
 इस अवसर पर मुख्यमंत्री उ0प्र0 को हृदय से धन्यवाद देता हूॅ कि उन्होनें पुलिस की विश्वसनीयता को समझा हमारे मेहनत को समझा, और विश्वास किया। यही कारण है कि हमें इस प्रकार की प्रणाली दी, जो आपके सामने प्रस्तुत है। हमारे पूरी टीम में नया उत्साह, नयी स्फूर्ति, नया उमंग है, हमें इस माडल को प्रयोगात्मक नहीं ठोस बनाना है। 
 इस अवसर पर एस0वी0एम0 त्रिपाठी, पुलिस महानिदेशक, सेवानिवृत्त द्वारा कहा गया कि ओ0पी0 सिंह, पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 लीक से हटकर चलने वाले नयी सोच के अधिकारी है, जिस कारण कुछ लोग विचलित होते है, परन्तु इनके कार्यो से पुलिस की कार्यक्षमता में और अधिक वृद्धि हुयी है। इन्होनें बड़े लक्ष्य को रखकर कार्य किया और सफल रहे।
 इस अवसर पर सुजीत पाण्डेय, पुलिस आयुक्त, लखनऊ, आलोक राय, कुलपति लखनऊ विश्वविद्यालय, आर0एन0 सिंह, पुलिस महानिदेशक, (सेवानिवृत्त), अन्य सेवानिवृत्त पुलिस अधीकारीगण सहित सम्भ्रान्त व्यक्तिगण उपस्थित रहे।