आज समाजवादी पार्टी कार्यालय में नए वर्ष पर बधाई देने वालों का ताता लगा रहा


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 01 जनवरी। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का आज नए वर्ष पर अभिनंदन एवं शुभकामना देने वाले राजधानी लखनऊ सहित राज्य के विभिन्न जनपदों से आए हजारों लोगों का आज समाजवादी पार्टी मुख्यालय, लखनऊ में तांता लगा रहा। पार्टी कार्यालय में जश्न का माहौल रहा। यश भारती प्राप्त पं0 हरिप्रसाद मिश्रा ने मंत्रोच्चारण के साथ अखिलेश यादव की सफलता एवं सन्् 2022 के लिए शुभकामना की। कैंट के किशन बैण्ड ने समाजवादी पार्टी के गीतों की धुन बजाकर शानदार स्वागत किया। सिराथू कौशाम्बी से आए ग्राम प्रधान लवलेश कुमार यादव अपनी पार्टी कलर की आल्टो गाड़ी भरकर अमरूद लाए थे। उनके साथ धनराज यादव और कैलाश यादव भी आए थे। राजीव सपेरा और पृृथ्वीनाथ सपेरा ने बीन बजाकर अभिनंदन किया। अल्लूपुर, मलीहाबाद के वीरेन्द्र सिंह यादव ने सीडलेस काले जामुन का पौधा भेंट किया।


      अखिलेश यादव को नववर्ष की बधाई देने वालो में बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक, महिलाएं, व्यापारी, पूर्व सैनिक, रोजगार सेवक, सिख समाज, खिलाड़ी, पत्रकार, प्रोफेसर, डाक्टर, युवा नेता, अधिवक्ता, किसान सभी शामिल थे। समाजवादी पार्टी के विधायको, पूर्व मंत्रियों, विभिन्न जिलों के नताओं ने भी बुके के साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष जी का अभिनंदन किया। यहां आये सभी लोगो का कहना था कि राज्य की जनता के हित में भाजपा का सत्ता से बेदखल होना और समाजवादी पार्टी की सरकार बनना आवश्यक है। वे नववर्ष 2020 के साथ ही समाजवादी सरकार बनाने का संकल्प लेकर गए। महिलाओं ने उम्मीद जताई कि भाजपा से मुक्ति के बाद समाजवादी सरकार में ही उनका सम्मान सुरक्षित रहेगा।
     राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने नववर्ष पर सभी के सुख समृृद्धि की कामना करते हुए कहा कि नया सवेरा और नववर्ष राज्य की जनता का तभी आएगा जब भाजपा की सरकार बदल जाएगी। अभी तीन वर्ष भी नहीं हुए जबकि भाजपा के प्रति जनता का भरोसा उठ गया है। उन्होने कहा कि सन्् 2022 में जन विश्वास तोड़ने के कारण सत्ता से भाजपा का हटना अवश्यभावी है।
      अखिलेश यादव ने कहा कि सीएए, एनआरसी और एनपीआर तीनों व्यवस्थाएं साजिश हैं और भारतीयों के विरूद्ध है। भाजपा की राज्य की जनता के प्रति कोई संवेदना नही है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की व्यवस्था संविधान में है। इसको कोई छीन नहीं सकता है। अखिलेश यादव ने आव्हान किया कि सन्् 2022 में समाजवादी सरकार बनाने के लिए अभी से सभी को जुट जाना चाहिए। नोटबंदी-जीएसटी ने जनता की मुसीबतें बढ़ाई हैं। बेरोजगारी बढ़ी है।
     श्री यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने नव वर्ष में जनता की खुशियों पर आाघात करते हुए रेल किराया, बस किराया बढ़ाने के साथ घरेलू गैस के दाम 19 रूपए तक बढ़ा दिए है। उन्होने कहा अब एनपीआर की मुसीबत आ गई है। जब आधार कार्ड में पूरा विवरण है तो एनपीआर की कवायद क्यो की जा रही है। उन्होने जनता का आव्हान किया कि वह सत्याग्रह आंदोलन के ढंग से एनपीआर फार्म नहीं भरे। भाजपा ने दुनिया में भारत की बदनामी कराई है। आज यहां 1967 के चुनाव में कन्नौज लोकसभा चुनाव में समाजवादी नेता डा0 राममनोहर लोहिया के प्रस्तावक विधूना के श्री लज्जाराम शर्मा ने बधाई दी वहीं एथलीट और 100 मीटर रेस के विजेता विश्वजीत यादव ने और एचसीएल कंपनी के राजनराय, छोटे लोहिया जनेश्वर मिश्र की बहन और उनके दामाद तथा बार एसोसिएशन के महासचिव जितेन्द्र सिंह 'जीतू' यादव एडवाकेट भी भेंटकर्ताओ में शामिल थे।
    अखिलेश यादव को शुभ कामना देने वाले प्रमुख लोगोें में नेता प्रतिपक्ष विधान परिषद श्री अहमद हसन, राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, पूर्व मंत्री ब्रहमाशंकर त्रिपाठी, शैलेन्द्र यादव ललई, के0के0 गौतम, घूरेराम, फरीद महमूद किदवई, अबरार अहमद, पारसनाथ यादव, योगेन्द्र प्रताप सिंह, अभिषेक मिश्रा, पूर्व सांसद श्रीमती सुशीला सरोज, एवं वनवारी लाल कंछल, प्रदेश कोषाध्यक्ष राजकुमार मिश्र शामिल थे। इसके अतिरिक्त युवा नेता गौरव दुबे, विकास यादव, मो0एबाद, पी0डी0 तिवारी भी भेंटकर्ताओं में थे।
      इसके अतिरिक्त भेंट कर्ताओं में फाखिर सिद््दीकी, चैधरी राजपाल सिंह, जय सिंह जयन्त, मुकेश शुक्ला, मनीष सिंह, विनोद सविता, बंदना चतुर्वेदी, डा0 मरगूब कुरैशी, याकूब अंसारी, एसके राय, जयवर्धन, सर्वेश अम्बेडकर, चैधरी रामलोटन निषाद, विद्या यादव, सरिता यादव, शीला सिंह, गीता पाण्डेय, कीर्ति सिंह, फरहाना सिद््दीकी, आलोक त्रिपाठी, देवेन्द्र सिंह 'जीतू' अपर्णा जैन, नीलम रोमिला सिंह ज्ञानेन्द्र मिश्र, विजय यादव, आरएस यादव, हाजी इस्लामुद््दीन, धीरज श्रीवास्ताव, महेंद्र यादव, सूर्यमुखी यादव, छात्रनेता सर्वश्री सतीश समर यदुवंशी, सर्वेश शुक्ला, मधुर सिंह, गौरव पाण्डेय, अभिषेक यादव, दीपक दीप चैरसिया, वीरू पाल, अक्षय पटेल आदि के नाम उल्लेखनीय है।