सी0ए0ए0 के विरोध में प्रदेश के जनपदों में किये जा रहे धरना-प्रदर्शन/कार्यवाही में त्वरित कार्यवाही किया गया - ओ0पी0 सिंह  


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा   
लखनऊ 20 दिसंबर। सी0ए0ए0 के विरोध में प्रदेश के अधिकंाश जनपदों में सामान्य रूप से शान्ति रही। कुछ जनपदों में दोपहर जुमे की नमाज के पश्चात सुनियोजित रूप से प्रदर्शनकारियों द्वारा प्रदर्शन करते हुए पुलिस कर्मियों पर हमला किया गया एवं तोड़फोड़ की गयी। उग्र प्रदर्शन के दौरान उपद्रवियों द्वारा कम उम्र के बच्चों को आगे किया गया, जिनकी सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए पुलिस बल द्वारा संयम बरतते हुए त्वरित कार्यवाही करके स्थिति को नियंत्रण किया गया। 
दिनांक 19.12.2019 को सपा, कांग्रेस व अन्य पार्टियों द्वारा सीएए के विरोध में प्रदेश के विभिन्न जनपदों में आयोजित धरना-प्रदर्शन में कुल 17 अभियोग पंजीकृत कर 144 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया। जनपद लखनऊ में 10 अभियोग व जनपद वाराणसी में 03 अभियोग, पीलीभींत में 01 अभियोग, सम्भल 02 तथा कुशीनगर में 01 अभियोग पंजीकृत कर विधिक कार्यवाही की जा रही है।
  जनपद लखनऊ में आज जुमे की नमाज सभी मस्जिदों में शान्तिपूर्वक ढंग से सम्पन्न हुई। जनपद फिरोजाबाद, मुजफ्फरनगर, बुलन्दशहर, बहराइच सहित 12 जनपदों में उग्र प्रदर्शनकारियों द्वारा जुमे की नमाज के पश्चात रोड पर आकर पथराव आदि की घटनायें हुई, जिसे वहाॅं पर उपस्थित पुलिस बल द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए नियंत्रण में रखा गया। जुमे की नमाज के पश्चात आयोजित धरना-प्रदर्शन के मद्देनजर पुलिस बल द्वारा त्वरित निरोधात्मक कार्यवाही करते हुए 667 लोगों को हिरासत में लिया गया।
          दिनांक 20.12.2019 को प्रदेश के 75 जनपदों में से कुछ जनपदों को छोड़कर स्थिति नियंत्रण में रही तथा शांति-व्यवस्था की स्थिति बनी रही। कतिपय जनपदों में जुमें की नमाज के ठीक बाद योजनाबद्ध, संगठित तरीके से नमाज के बाद भीड़ के लोग सुनियोजित रूप से पुलिस पर हमलावर हुए। पुलिस ने समझाने की कोशिश की, तो पुलिस पर पथराव किया गया तथा कई स्थानों पर पुलिस पर फायरिंग भी की गयी, फिर भी पूरे प्रकरण में पुलिस द्वारा संयम से विधि व्यवस्था को नियन्त्रित 
किया गया। वर्तमान में स्थिति नियन्त्रण में है। समस्त जनपदों में गम्भीर धाराओं में मुकदमें पंजीकृत कर साक्ष्य संकलन किया जा रहा है तथा उपद्रवियों और षडयंत्रकारियों के साथ कठोरतम कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।
  पूरे प्रदेश में जहां पर हिंसा एवं आगजनी की घटना हुई है वहां 38 पुलिस कर्मी घायल हुए है, कुछ के फायर आम्र्स इंजरी भी हुई है, लगभग 02 दर्जन वाहनों को क्षतिग्रस्त किया गया एवं जलाया गया है। असामाजिक तत्वों की फायरिंग/तोड़फोड़ में 06 व्यक्तियों की मृत्यु की जानकारी हुई है। प्रत्येक जनपद से इस संबंध में क्षति का आंकलन करते हुए रिपोर्ट मांगी गयी है। ऐसे समस्त उपद्रवियों को चिन्हित कर उनके विरूद्व कठोरतम कार्यवाही के साथ-साथ आर्थिक क्षति की वसूली भी नियमानुसार किये जाने की कार्यवाही की जाएगी। समूचे प्रदेश में विधि व्यवस्था की स्थिति सामान्य है एवं स्थिति पर सतर्क दृष्टि रखी जा रही है।