सी0ए0ए0 के विरोध में किये गये धरना प्रदर्शन/कार्यवाही में 1113 व्यक्ति गिरफ्तार

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 26 दिसम्बर। प्रदेश में नागरिकता संशोधन अधिनियम के विरोध में दिनांक 10.12.2019 से अब तक प्रदेश के विभिन्न जनपदों में विधि विरूद्ध प्रदर्शनों, आगजनी, तोड़फोड़ एवं पुलिस पर फायरिंग आदि की घटनाओं के सन्दर्भ में प्राप्त सूचनानुसार कुल 327 अभियोग पंजीकृत किये गये हैं, जिनमें 1113 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है एवं 5558 लोगों को हिरासत में लेकर निरोधात्मक कार्यवाही की गयी। 
 अब तक प्राप्त सूचनानुसार सी0ए0ए0 के विरोध में सम्पूर्ण प्रदेश में हुए उग्र प्रदर्शन के दौरान हिंसा, आगजनी एवं तोड़फोड़ की घटनाओं के क्रम में 19 व्यक्तियों की मृत्यु की सूचना प्राप्त हुयी तथा 288 पुलिसकर्मी घायल हुए, जिनमें 61 पुलिसकर्मी फायर आम्र्स से घायल हुए हैं। घटनास्थलों से 647 नान प्रतिबंधित बोर (315 बोर, 12 बोर) के खोखा कारतूस, 69 जीवित कारतूस व 35 अवैध तमंचें भी बरामद हुए। जनपद सम्भल में दिनांक 20.12.19 को अपराध शाखा के निरीक्षक की पिस्टल भी उपद्रवियों द्वारा छीन ली गयी। अभियोग पंजीकृत कर विधिक कार्यवाही की जा रही है।
 पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा इस संबंध में पंजीकृत अभियोगो की विवेचनाओं के  निस्तारण हेतु अपर पुलिस अधीक्षक अपराध/अपर पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में एसआईटी का गठन कराकर कार्यवाही सम्पादित कराये जाने के निर्देश दिये है। विवेचनाओं का निष्पक्ष एवं गुणवत्तापरक निस्तारण हेतु अभियोगों की विवेचना हेतु सुयोग्य तथा भिज्ञ विवेचनाधिकारी नियुक्त किया जाय। इस क्रम में सीसीटीवी फुटेज व अन्य उपलब्ध रिकार्डिंग से वास्तविक उपद्रवियों की पहचान कर विधिक कार्यवाही की जाय। समूचे प्रदेश मंे कानून-व्यवस्था की स्थिति पूर्णतया नियन्त्रण में है, तथा सामान्य जन-जीवन सुचारू रूप से चल रहा है।  सम्प्रति साक्ष्य संकलन एवं उपद्रवियों की गिरफ्तारी एवं षडयंत्रकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की प्रक्रिया प्रभावी ढंग से प्रचलित है। 
 मा0 सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के कं्रम में सार्वजनिक एवं निजी सम्पत्ति को हुयी क्षति के दृष्टिगत दोषी व्यक्तियों के विरूद्व अभियोग पंजीकृत कर क्षतिपूर्ति के निस्तारण हेतु वसूली की विधि सम्मत कार्यवाही की जा रही है। सम्पूर्ण प्रदेश में विधि व्यवस्था की स्थिति सामान्य हैं तथापि स्थिति पर सतर्क दृष्टि रखी जा रही है।