पुलिस महानिदेशक ने सम्मेलन आयोजित कर प्रदेश के पुलिस कर्मियों से किया संवाद 


- सम्पूर्ण उ0प्र0 में लगभग एक लाख पुलिस कर्मियों द्वारा एक ही समय एक साथ सीधा संवाद।


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ ३१ दिसंबर। ओ0पी0 सिंह, पुलिस महानिदेशक, उत्तर प्रदेश द्वारा प्रदेश के समस्त विभागाध्यक्ष/कार्यालयाध्यक्ष, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक, प्रभारी जनपद/सेनानायक, पीएसी वाहिनी एवं पुलिस अधीक्षक, रेलवेज, उत्तर प्रदेश को दिनांक 31-12-2019 को पूर्वाह्न 11ः00 बजे अपने-अपने कार्यालय/इकाईयों में नियुक्त पुलिस कर्मियों का एक सम्मेलन आहूत कर संवाद करते हुये निम्न बिन्दुओं कार्यवाही के निर्देश दिये गये थे। 



ऽ वर्ष-2019 में कुम्भ, लोकसभा सामान्य निर्वाचन, अयोध्या प्रकरण में मा0 सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय, काॅवड़ मेला तथा अन्य महत्वपूर्ण पर्वो एवं त्यौहारों के अवसर पर कानून-व्यवस्था को बनाये रखने हेतु प्रदेश के पुलिस कर्मियों द्वारा जिस लगन एवं निष्ठा से अतिरिक्त समय एवं उर्जा का विनियोग कर अपने कर्तव्य का निर्वहन किया है, उसका भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुये उनका उत्साहवर्धन किया जाय।
ऽ पुलिस कर्मियों द्वारा इन अवसरों/चुनौतियों पर की गयी श्लाध्य एवं अप्रतिम ड्यूटी के परिप्रेक्ष्य में पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा उन्हें 'सराहनीय प्रविष्टि' दिये जाने के निर्णय से समस्त पुलिस कर्मियों को अवगत कराया जाये। कुम्भ मेला-2019 के सफलता पूर्वक सम्पन्न होने पर मा0 मुख्यमंत्री उ0प्र0 द्वारा 43,377 पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को ''कुम्भ सेवा मेडल'' एवं ''प्रशंसा चिन्ह'' दिये जाने का निर्णय लिया गया है।
ऽ उन्हें यह भी अवगत कराया जाये कि विगत वर्षो में प्रदेश के 52 जनपदीय पुलिस लाइनों में भी पीएसी की तर्ज पर सब्सिडियरी पुलिस कैण्टीन का संचालन प्रारम्भ किया गया है। यह पुलिस कर्मियों के मनोबल के उन्नयन एवं उनके कल्याण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।
ऽ उन्हें यह भी अवगत कराया जाये कि सेवारत एवं सेवानिवृत्त पुलिस कर्मियों व उनके परिवार को उच्चकोटि की चिकित्सीय सुविधायें उपलब्ध कराने हेतु सी0जी0एच0एस0 की अनुमन्य दरों पर चिकित्सीय सुविधायें उपलब्ध करायी जा रही है।
ऽ पुलिस स्मृति दिवस परेड में मा0 मुख्यमंत्री जी उ0प्र0 द्वारा की गयी घोषणाओं के आलोक में उ0प्र0 पुलिस के कल्याण हेतु किये जा रहे कार्यो के बारे में भी अवगत कराया जाय।
ऽ पुलिस कर्मियों के परिवार के कल्याणार्थ कर्तव्य पालन के दौरान ''कोमा'' में गये पुलिस कर्मियों हेतु असाधारण पेंशन की सुविधा प्रदत्त किये जाने का निर्णय लिया गया है। उ0प्र0 सम्पूर्ण भारत वर्ष में एकमेव राज्य है जहां पुलिस जनों हेतु ऐसी सविधा उपलब्ध है।
ऽ इसी प्रकार कर्तव्यपालन के दौरान आंशिक या पूर्ण अपंगत्व होने पर भी पुलिस कर्मी को रू0 10 लाख से 20 लाख तक की अनुग्रह धनराशि प्रदान करने का भी शासनादेश जारी किया गया है।
ऽ इस वर्ष में कानून-व्यवस्था ड्यिूटियों में लगातार कर्तव्यरत रहने के कारण पुलिस कर्मियों द्वारा आवश्यकता के दृष्टिगत अवकाश का उपभोग नहीं किया जा सका है, उन्हें अधिकतम 05 दिवस या जो भी अवकाश दिनांक 31.12.2019 को देय हो (अधिकतम 05 दिवस) उसे रिवार्ड लीव के तौर पर देना सुनिश्चित करें।
 उक्त के क्रंम में प्रदेश के समस्त जनपदों/इकाईयों आदि में लगभग एक लाख की संख्या में पुलिस कर्मियों से सीधा संवाद कर उन्हें पुलिस विभाग द्वारा कर्मचारियों के हित में जो कल्याणकारी योजनायें संचालित की जा रही हैं, जैसे- 1.कैन्टीन की व्यवस्था, 2.सी0जी0एच0एस0 योजनान्तर्गत उपचार, 3.सुख सुविधा निधि, 4.कल्याण निधि, 5.अनुग्रह धनराशि, 6.अनुकम्पा निधि, 7.उ0प्र0 पुलिस एवं आम्र्ड फोर्सेज सहायता संस्थान द्वारा आर्थिक सहायता, 8.शिक्षा निधि, 9.दुर्घटना बीमा योजना, 10.चिकित्सा व्यय प्रतिपूर्ति, 11.पुलिस वेनीवोलेन्ट फण्ड (मैचिंग ग्रान्ट), 12.मेमोरियल फण्ड से छात्रवृति, 13.जीवन रक्षक निधि, 14.जीवन बीमा योजना, 15.कैशलेश उपचार की सुविधा एवं 16. पुलिस सैलरी पैकेज (पीएसपी) आदि सहित उपरोक्त बिन्दुओं केे संबंध में भंलि-भांति अवगत कराया गया।
  ओ0पी0 सिंह, पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा आज दिनांक 31-12-2019 को पूर्वान्ह 11ः00 बजे पुलिस मुख्यालय, गोमतीनगर विस्तार स्थिति अवनि प्रेक्षागृह में पुलिस मुख्यालय स्थिति सभी ईकाइयों के राजपत्रित एवं अराजपत्रित पुलिस कर्मियों का सम्मेलन कर वर्ष 2019 की उपलब्धियों एवं नववर्ष 2020 की सम्भावित चुनौतियों के संबंध में संवाद किया गया। 
 पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा प्रेक्षागृह में उपस्थित सभी पुलिस कर्मियों को नववर्ष 2020 की बधाई दी गयी तथा उन्हें वर्ष 2019 की उपरोक्त उपलब्धियों से अवगत कराते हुये कहा गया किः-


ऽ वर्ष-2019 में कुम्भ, लोकसभा सामान्य निर्वाचन, अयोध्या प्रकरण में मा0 सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय एवं प्रदेश के महत्वपूर्ण पर्वो एवं त्यौहारों के अवसर पर निकलने वाले जुलूसों आदि में कानून-व्यवस्था को बनाये रखने हेतु प्रदेश के पुलिस कर्मियों द्वारा जिस लगन एवं निष्ठा व कठिन परिश्रम से अतिरिक्त समय एवं उर्जा का विनियोग कर अपने कर्तव्य का निर्वहन किया है, यह एक एतिहासिक उपलब्धि है, जिसका श्रेय पुलिस के समस्त जवानों को जाता है। उनकी भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुये उनका उत्साहवर्धन किया गया।
ऽ उत्तर प्रदेश पुलिस के लगातार सक्रियता व कठिन परिश्रम से सभी प्रकार के जघन्य अपराधों और संगठित अपराधों में भारी कमी आयी। 
ऽ वर्ष 2019 में पुलिस कर्मियों द्वारा किये गये उत्कृष्ट कार्यो एवं इन अवसरों/चुनौतियों पर की गयी अप्रतिम ड्यूटी के परिप्रेक्ष्य में पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को विभिन्न पदकों से भी अलंकृत किया गया। 
ऽ विगत वर्ष 2019 में प्रदेश पुलिस के कार्मिकों को रियायती दरों पर दैनिक उपयोग के सामान उपलब्ध कराने हेतु पुलिस मुख्यालय लखनऊ सहित 52 जनपदीय पुलिस लाइनों एवं 33 पीएसी वाहिनियों में सब्सिडियरी पुलिस कैण्टीन का संचालन प्रारम्भ किया गया है। यह पुलिस कर्मियों के मनोबल के उन्नयन एवं उनके कल्याण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।
ऽ सेवारत एवं सेवानिवृत्त पुलिस कर्मियों व उनके परिवार को उच्चकोटि की चिकित्सीय सुविधायें उपलब्ध कराये जाने का भी वर्ष 2019 में निर्णय लिया गया। जिसके तहत प्रदेश के 36 जनपदों में लगभग 200 से ज्यादा हास्पिटल जहां सी0जी0एच0एस0 व्यवस्था उपलब्ध है के डायरेक्टरों, मालिकों एवं डाक्टरों से लखनऊ में वार्ता की गयी, जिसमें उन सभी द्वारा इस व्यवस्था के संबंध में अपनी-अपनी सहमति प्रदान की गयी। पुलिस कर्मियों के फायदे हेतु सी0जी0एच0एस0 की अनुमन्य दरों पर चिकित्सीय सुविधायें उपलब्ध करायी जा रही है। पुलिस कर्मियों के लिये यह योजना सबसे बड़ी कल्याणकारी योजनाओं में से एक है। 
ऽ वर्ष 2019 में पुलिस कर्मियों के परिवार के कल्याणार्थ कर्तव्य पालन के दौरान ''कोमा'' में गये पुलिस कर्मियों हेतु असाधारण पेंशन की सुविधा प्रदत्त किये जाने का निर्णय लिया गया है। इस प्रकार कर्तव्यपालन के दौरान आंशिक या पूर्ण अपंगत्व होने पर भी पुलिस कर्मी को रू0 10 लाख से 20 लाख तक की अनुग्रह धनराशि प्रदान करने का भी शासनादेश जारी किया जा चुका है।
ऽ वर्ष 2019 में पुलिस विभाग की क्षमता को और अधिक बढ़ाने के लिये सीधी भर्ती, पदोन्नति, पदक व पदकों के सृजन में काफी बढ़ोत्तरी की गयी है। अब तक विभिन्न पदों पर लगभग 80,405 भर्तियाॅं की गयीं हैं एवं लगभग 46,928 प्रोन्नति की कार्यवाही भी की गयी है। लगभग 61,168 पदोें के लिये भर्तियां व लगभग 33,043 पदों हेतु प्रोन्नति की कार्यवाही प्रचलित है। 
ऽ वर्ष 2019 में प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान दिया गया। उत्तर प्रदेश में पहली बार वर्चुअल क्लास के माध्यम से मा0मुख्यमंत्री, उ0प्र0 द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को सीधे सम्बोधित किया गया। प्रशिक्षण में और अधिक सुधार लाने हेतु पाठ्यक्रम को नया रूप प्रदान करने हेतु मंथन किया गया, प्रशिक्षण में तकनीक का प्रयोग, इंसट्रक्टर की कमी को दूर करने सहित अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर भी कार्य किया गया। प्रशिक्षणार्थियों के व्यवहारिक प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान देने के साथ-साथ संशोधित पाठ्यक्रम पर बढ़ी संख्या में सभी रैंको को प्रशिक्षित किया गया। जनपद जालौन और सुलतानपुर में दो नये प्रशिक्षण कालेज शुरू किये गये।
ऽ उ0प्र0 पुलिस के कल्याण हेतु उनकी आवासीय समस्याओं के संबंध में उ0प्र0 सरकार द्वारा पुलिस बजट में बढ़ोत्तरी की गयी।
  पुलिस महानिदेशक, उ0प्र0 द्वारा वर्ष 2020 की सम्भावित चुनौतियों के संबंध में भी उपस्थित पुलिस कर्मियों से संवाद करते हुए कहा कि आने वाले वर्ष में निम्न चुनौतियों पर भी हमें कार्य करना है:-
महिलाओं और बच्चों के विरूद्ध होने वाले अपराधिक मामलों में शीघ्र सजा दिलाया जाना।
 व्यवहारिक प्रशिक्षण पर निरन्तर ध्यान देने के साथ-साथ बडी संख्या में सीधी भर्ती व प्रोन्नति पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षण प्रदान कराना।
 विशेष रूप से बडे शहरों में जहां एकीकृत यातायात प्रबन्धन प्रणाली लागू की जा रही है, बेहतर यातायात प्रबन्धन कराना तथा शीघ्र इसे लागू कराना।
 जनपद लखनऊ में सुरक्षित शहर परियोजना को पूर्ण कराना। 
 आवास/बैरिक योजनाओं हेतु उत्तर प्रदेश सरकार से प्राप्त बजट के कार्य को समय से पूर्ण कराना तथा प्रशिक्षण सुविधाओं का निर्माण कराना। 
 प्रभावी ढंग से समस्याओं के समाधान के लिये आमजन तक अपनी व्यापक एवं गहरी पैठ बनाना।
 विधि व्यवस्था को लगातार सृदृढ़ बनाये रखना।