प्रदेश सरकार किसान विरोधी, कर रही किसानों के साथ विश्वासघात : अनिल दुबे 


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 12 दिसम्बर। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल दुबे ने प्रदेश सरकार को किसान विरोधी बताते हुये कहा है कि भाजपा सराकर ने गन्ना मूल्य मंे बढोत्तरी न करके किसानों के साथ विष्वासघात किया है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में कहा था कि वह किसानों की आमदनी को दुगुना करने तथा किसानों को लागत का डेढ गुना मूल्य देने का काम करेंगे। आज जब उ0प्र0 में भाजपा की सरकार है तो किसानों को लागत का डेढ गुना मूल्य तो दूर उनको लागत भी देने में सरकार हीलाहवाली कर रही है।
आज जारी बयान में श्री दुबेे ने कहा कि उ0प्र0 सरकार द्वारा गन्ने की कीमते न बढाई जाने के विरोध में उ0प्र0 के किसान आन्दोलन कर रहे हैं। प्रदेष में गन्ना किसान आन्दोलन कर रहे है और दूसरी तरफ सरकार किसान हितैषी होने का ढोंग रच रही है। प्रदेष में गन्ना किसानों का पिछले सत्र का लगभग 3000 करोड तथा वर्तमान सत्र का लगभग 6000 करोड व ब्याज मिलाकर लगभग 12000 करोड रूपये आज भी बाकी है। जिसके कारण यहां के किसानों की स्थिति सोचनीय बनी हुयी है कई चीनी मिलें तो किसानों के कई वर्षाे का भुगतान नहीं कर रही है। मा0 उच्च न्यायालय और मा0 उच्चतम न्यायालय के हस्तक्षेप के बावजूद राज्य सरकार गन्ना किसानों का पूर्ण भुगतान अभी तक नहीं करा पाई है लेकिन सबसे ज्यादा भुगतान करने का ढिंढोरा जरूर पीट रही है।
श्री दुबे ने कहा कि कृषि उत्पादन की लागत में लगातार वृद्वि हो रही है खाद, बिजली, पानी, बीज व डीजल के मंहगे होने से किसान परेषान है और आर्थिक संकट में है लेकिन उनके संकट के प्रति सरकार जरा भी गम्भीर नहीं है। यही स्थिति उ0प्र0 में धान किसानों की भी हो रही है। उ0प्र0 में धान क्रय केन्द्र पर अव्यवस्था का माहौल है वहां पर बोरे तक उपलब्ध नहीं हैं। किसानों को परेषान होेकर औने पौने दामो में बिचैलियों को बेचना पड रहा है।