चौधरी चरण सिंह किसानों की आवाज थे : योगी आदित्यनाथ


वेबवार्ता (न्यूज एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 23 दिसंबर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजादी के बाद भारत की कृषि नीति कैसी होनी चाहिए, उसकी आवाज किसान नेता के रूप चौधरी चरण सिंह बने थे। उसका परिणाम रहा कि किसान देश की राजनीति की धुरी और एजेंडा का हिस्सा बने रहे। पूरे देश का किसान उन्हें न केवल अपना नेता मानता था, बल्कि अपना सच्चा हितैषी भी मानता था। योगी ने कहा कि चौधरी चरण सिंह के नाम पर राजनीति बहुत लोगों ने की, लेकिन उनकी कर्मभूमि पर बंद होने की कगार पर चली गई रमाला चीनी मिल की तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया। पिछले 30 वर्षों से उसके नवीनीकरण और विस्तारीकरण की मांग की जा रही थी। इस वर्ष हमारी सरकार उसका विस्तारीकरण और नवीनीकरण कर वहां पर नई चीनी मिल शुरू करवाने में सफल रही।



मुख्य सचिव आर0के0 तिवारी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 चैधरी चरण सिंह की कृषि अर्थशास्त्र में विशेष रुचि थी। मुख्यमंत्री जी के कुशल मार्गदर्शन में कृषि क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन आया है। इसी का परिणाम है कि इस वर्ष 604 लाख टन रिकाॅर्ड खाद्यान्न उत्पादन हुआ है। कृषि राज्य मंत्री श्री लाखन सिंह राजपूत ने सभी के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया।
इस अवसर पर गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा, प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद, प्रमुख सचिव श्रम एवं सेवायोजन सुरेश चन्द्रा, कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, बड़ी संख्या में किसान व अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे।